दीपावली पर , एक घर में पप्पू को घर को रंग रोगन करने का काम दिया गया पप्पू ने बहुत ही ईमानदारी से पूरे घर को रंग रोगन किया!
घर के मालिक ने जब पूरे घर को देखा तो खुश हो गया उसने पप्पू को शाबाशी देते हुए कहा! पप्पू मैं तुम्हारे काम से बहुत खुश हूँ उसने पप्पू को पैसे दिए और 500 रूपए अलग से देते हुए कहा लो बीवी को बाहर डिनर के लिए ले जाना और मूवी भी दिखा देना !
पप्पू ने कहा नहीं साहब ! मैं नहीं ले जा सकता !
मालिक ने कहा कोई बात नही मैं उसे मना लूंगा अगर तुम ऐसा करोगे तो मुझे बहुत खुशी होगी !
पप्पू ने कहा अगर ऐसी बात है तो मुझे कोई ऐतराज नही ,  मैं जरुर ले जाऊंगा !
रात को पप्पू बिल्कुल तैयार होकर आया , बढ़िया कपड़े, हाथों में फूलों का गुलदस्ता, उसने घर की घंटी बजाई !
घर का मालिक दरवाजे पर आया और उसे लगा शायद पप्पू कुछ भूल गया होगा उसने पूछा
पप्पू क्या बात है क्या यहां कुछ रह गया है  ?
पप्पू ने कहा , नही मैं तो यहां बीवी को लेने आया हूं, आपने ही तो दिन में कहा था कि शाम को बीवी को डिनर के लिए और मूवी दिखाने के लिए ले जाना ! दिग्गी चाचा ने खुद कर ली पर मेरी तो शादी भी नहीं हुई !
1430924221921
मालिक बेहोश !
Advertisements