dscn21451 (1)dscn21451 (1)

हम अपनी शाम को फेसबुक के संग सुलझा रहे थे तभी हमारे फैमिली डॉक्टर टपक पड़े । पत्नी जी ने मेरी शिकायत का पुलिंदा खोला ?
पत्नी – जरा देखना…फेसबुक के कारण इनको भूख ही नहीं लगती है , दिनों दिन सींकिया पहलवान होते जा रहे हैं ।
डॉक्टर – क्यूँ भाई , क्या बात है ? कुछ खाते क्यों नहीं ?
हम – खाया है न , डॉक्टर साहब..! सुबह ब्रेड सेंडविच खाये, दोपहर को मटर पनीर खाया । शाम को गोलगप्पे खाये । फिर स्नेक्स खाये और अभी दो बार डिनर किया है । इसके बाद इतनी ठंडी में आइसक्रीम भी खाई है ।
डॉक्टर -अरे ! हँसमुखी जी ” आपने ” इतना कुछ गटक लिया है फिर भी भाभी जी कह रही हैं ??
पत्नी -डॉक्टर साहब , ये सब कुछ , इनकी फेसबुक फ्रेंड्स ने फेसबुक पर खिलाया है ।
पति – हाँ , तो जल क्यों रही हो ?? किसी का दिमाग तो नहीं खाया है जो तुम्हारी तरह ” टुन-टुन ” हो जाता ?
अब इतनी सी बात पर कोई मुंह फुलाता है क्या ???

http://narendradubeyhansmukhi.blogspot.in/2016/01/blog-post_9.htmldscn21451 (1)

Advertisements