ससुर- अरे दामाद जी अचानक कैसे आना हुआ वो भी बारात के साथ।
.
.
.
.
.
दामाद- वो सोचा आजकल सब अपना पुरस्कार लौटा रहे है तो मैं भी..।
.
ससुर- सिर्फ पुरुस्कार नहीं बेटा , दहेज़ भी ले आना ब्याज समेत और हाँ चार बोरी दाल न भूल जाना ।
दामाद बेहोश ।

Advertisements